मेंढकों का क्रेजी एडवेंचर भाग – 1

भाग 1 – दो मेंढक एक डरावने राजमार्ग पर एक दूसरे से मिले

एक रात की बात है बहुत जोरसे बारिश हो रही थी
बेडूक बहुत खुश थे उन्हें लगा ये टाइम है
मेरे बहार आने का और घूम ने का एक नन्हा सा बेडूक था
उसी टाइम के वक़्त पैदा हुआ था
उसने कभी बारिश देखि नहीं थी
देखना चाहता था
बारिश कैसी होती है
लेकिन उसी वक़्त वो बहुत डर रहा था
की उससे कुछ हो ना जाए
उसी वक़्त उसकी नजर एक
लड़की बेडूक पे पड़ी
वो उसे देखता रहा
वो लड़की बेडूक बहुत ख़ुशी से कूद रही
थी और वो उत्साहित थी बहार जाने के लिए
और उसी समय वो लड़का बेडूक बहुत जाने के लिए
फिर वो लड़की बेडूक चली गयी पहली बारिश का
आनंद लेने के लिए
उसके पीछे पीछे वो लड़का बेडूक भी चला गया
वो लड़की बेडूक खुसी से कूद ते जा रही थी
वो आजु बाजू देखे बिना उत्साहित से चली जा रही थी
और वो जो बेडूक डर रहा था बहार जाने के लिए
वो उसके पीछे पीछे चला जा रहा था
वो जो लड़की बेडूक थी वो पहिल बार पूरा प्रकृति
देख रही थी
उसी समय वो लड़का बेडूक साप को देखता है
और बहुत डर जा ता है
और वो साप भी उन बेडूक को देख लेता है
वो साप वो लड़की बेडूक को खाने के विचार में था
वो लड़के बेडूक को पता चल गया था की वो साप लड़की बेडूक को
खाने को सोच रहा है
वो लड़का बेडूक डर भी बहुत रहा था
वो साप से क्यूंकि उसे लगा अगर वो उसे
लड़की बेडूक को बचने
जायेगा तो शायद से वो साप उसे भी खा लेगा
वो सोच रहा था की क्या करे खुदकी जान बचके
भागे या उस लड़की बेडूक को बचाये
लेकिन सोचने का टाइम बहुत काम था
जितना टाइम निकल रहा था
वो साप उतना ही उस लड़की फ्रॉग
के पास आ रहा था
उस लड़के फ्रॉग ने सोचा मरे तो मरे उस लड़की बेडूक
को बचाऊंगा
वो जल्दी जल्दी उस लड़की बेडूक के पास गया
और बोलै हमारे पीछे एक साप पड़ा
है हमें खाने के लिए
तो वो लड़की बेडूक थोड़ी भी नहीं डरी
लड़का फ्रॉग बहुत चिंतिंत हो गया
इसके पीछे वो साप पड़ा है और ये खुश है
तो वो टाइम के लिए सोच रहा था की ये लड़की
बेडूक पागल तो नहीं है
बादमे वो लड़की बेडूक ने कहा
हम जैसे ये ज़िन्दगी में आये है
उसे तरह ये ज़िन्दगी से चले भी जायेंगे
मरना तो निश्चितंत है
या हम आज इस साप से मरेंगे या
भविष्य में किसी कारन से मरेंगे
लेकिन मरेंगे जरूर
यह सुन के वो लड़का बेडूक
बहुत गया
और सोचा बात तो सही बोल रही है
उस लड़की के ये बोलने से वो समझ गया
था की ये लड़की बेडूक डरती नहीं
और अपने ज़िन्दगी को ख़ुशी से जीने की
इस्छा रखती है
तो उस लड़के बेडूक ने बोलै
ये टाइम ज्ञान देने का नहीं है
कुछ करने का है
क्यूंकि वो साप हमारा ज्ञान सुनने नहीं आ
रहा है वो हमे खाने के लिए आ रहा है
तो जल्दी बताओ ज्ञान देने वाली बेडूक क्या करे
तो लड़की बेडूक बहुत खुसी से कहती है
वह एक चीज़ दिख रही है उसमे चलते है
वो चीज़ एक कार थी जिसका दरवाजा खुला हुवा था
वो लड़का बेडूक बहुत डर रहा था वो चीज़ के अंदर जाने
लेकिन बेचारा क्या करें वो साप उसके पीछे
पड़ा था तो उसे मजबूरन उस कार के अंदर
जाना पड़ा
वो साप ये देखते की यह बेडूक कार के अंदर
चले गए तो उसने अपना रास्ता मोड़ लिया
और चला गया दूसरी राह पर.

अगला भाग पढ़ने के लिए नीचे गए लिंक पे क्लिक करे

Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *