पडोसी के साथ अफेयर

दो नयी नवेली शादी शुदा जोड़ा पुणे में रहने के लिए आये थे क्यूंकि उन लोगो के वह पे जॉब लगी थी वो दोनों शादी शुदा जोड़ा एक ही फ्लैट के पडोसी थे.

२ महीने बिट गए बादमे उन दोनों कपल्स की एक दुसरे से पहचान हो गयी तो उसमे से एक जोड़े ने उनको एक साथ रात को डिनर पे बुलाया. वो दोनों शादी शुदा जोड़ो ने एक सात रात का खाना खाया

और उन लोगो की एक दूसरे से अच्छी पहचान होगयी. चलो उन दोनों जोड़ो का नाम दे देता हु वर्ण फ्यूचर में थोड़ी प्रॉब्लम हो जाएगी उन में से एक जोड़ी का नाम था आशीष और प्रज्ञा.

और दूसरी जोड़ी का नाम था सत्यम और संजना. तो एक दिन संजना ने अपने पति के लिए एक घडी लायी और उसके पति को दी तो उसके पति को पसंद नयी आयी तो संजना ने सोचा अब इस घरी का क्या करू

तो उसने वो घरी को आशीष को देदी. तो यह घडी लेते वक़्त आशीष को बड़ा अलग लगा लेकिन बादमे उसने ले लिया और उसने बोलै तो मुझे भी आपको एक गिफ्ट देना पड़ेगा तो इसके जवाब में संजना ने कहा इसकी कुछ जरुरत नहीं.

तो एक दिन पार्किंग एरिया में आशीष और सत्यम दोनों मिले थोड़ी बाते किये तभी आशीष की नज़र वो घडी पे गयी उसे लगा की ये तो वही घडी है जो उसके पत्नी ने उसके लिए लाया था तो वो जब ऊपर अपने रूम में गया और अपनी बीवी से पूछा वो घडी कहा है

तो उसके बीवी ने जवाब दिया वो घडी तो मेने पडोसी वाले आशीष को दे दी तो उसे थोडा अजीब लगा लेकिन उसके बाद उसने इसके बारे में सोचा नहीं तो बहुत दिन बाद आशीष ने एक अच्छी साड़ी लायी

और अपने रूम में रख दी उसके पत्नी ने वो साड़ी देखि औऔर सोची शायद से मेरा पति मुझे सरप्राइज गिफ्ट देने वाला है इसलिए बता नहीं रहा तो वो इंतज़ार कर रही थी की वो उसे गिफ्ट कब देगा ५ दिन बिट गए उसने गिफ्ट नहीं दिया

तो एक दिन प्रज्ञा ने वो साड़ी संजना को पहने देखि और उसे देख के ये बहुत खुश आया और थोड़ा शक हुआ ये साड़ी इसने क्यों पहनी है तो रात को जब उसका पति घर आया तो उसने ये पूछ तो उसने जवाब दिया की एक दिन संजना ने उसे घडी दी थी

तो उसने सोचा वो भी उसे कुछ दे दे तो उसके पत्नी को लगा उसके पत्नी ने मेरे पति को गिफ्ट क्यों देना चाहा उसने उससे बहुत सारे सवाल पूछे बादमे आशीष ने कहा तुम ख़म खा बहुत सारे सवाल पूछ रही हो ऐसा कुछ नहीं है.

तो एक टाइम क्या हुआ संजना मुंबई चली गयी अकेले उसे कुछ काम था और 2 दिन बाद सत्यम भी मुंबई चला गया उसे कुछ कंपनी का काम करना था वह पे थोड़ी देर के लिए. तो ये सब सत्यम की बीवी को बहुत ही विचित्र लग रहे थे

और संजना के पति को कुछ सही नहीं लग रहा था तो एक दिन सत्यम की बीवी ने कुछ बात करने के लिए संजना के पति को घरपे बुलाया और वो दोनों उस रात को बात करने लगे शुरुआत में थोड़ा सा अलग अलग टॉपिक पे बात कर रहे थे

बाद में सत्यम के बीवी ने कहा तुम्हे थोड़ा ये सब अलग नहीं लग रहा मेरा पति और तुम्हारी बीवी एक साथ इस वक़्त मुंबई गयी है तो इसके जवाब में संजना के पति ने कहा आपको भी इनके बारे में अलग रहा था.

मुझे बहुत दिनों से क्या पता क्यों ऐसा लग रहा था की इन दोनों का अफेयर चालू है. तो बादमे संजना के पति ने कहा लेकिन ये जूथ भी हो सकता है वो दोनों सिर्फ काम करने के लिए मुंबई गए होंगे ये बात होने के बाद वो दोनों चले गए डिनर ख़त्म करके सोने

लेकिन दोनों अंदर ही अंदर से बहुत चिंतिंत हो रहे थे उन दोनों को लगा की उनका अफेयर चालू है तो ऐसे बहुत दिन संजना के पति और सत्यम की पत्नी ने साथ में डिनर किया एक साथ

और ऐसे करते करते इन दोनों को एक दूसरे से प्यार होगया और इन दोनों ने एक रात भी साथ में गुजरली सुबह उठे तो संजना के पति ने कहा ये सब नहीं होने चाहिए था हम गलत कर रहे है

तो इसके जवाब में सत्यम की पत्नी ने कहा वो दोनों कर रहे है तो हम दोनों ने क्र लिया तो इसमें बुरा क्या है और असलियत में तो वो दोनों क्क कुछ अफेयर चालू ही नहीं था लेक्लिकिं इन दोनों को यकीन था की उन दोनों का अफेयर चालू है

तो इन दोनों ने सोचा की वो दोनों जैसे ही आये उन दोनों का मर्डर करके हम दोनों साथ हो जायेंगे और प्लान के मुताबिक उन लोगो ने ऐसेही किया और बादमे जाके किसी दूसरे शहर में ख़ुशी ख़ुशी से रहने लगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *